Thursday, April 1, 2010

उलटे पड़ते दावे

गुजरात दंगा पीड़ितों और उनके लिए लड़ने वालों का दर्द जानना हो तो इसे जरूर पढ़ें. ये इंडिया-टुडे के ताजा अंक में छपे लेख की तस्वीरें है. क्लिक कर पढ़ें.

हिन्दी में पढ़ें:

From india-today


From india-today


अंग्रेजी में पढ़ें:

From india-today


From india-today


From india-today


(देशहित में इंडिया टूडे से साभार)

3 comments:

Suresh Chiplunkar April 1, 2010 at 5:18 AM  

Excellent, हम तो पहले से ही जानते थे, लेकिन "सेकुलर्स" शायद अब मान जायें क्योंकि इंडिया टुडे ने कहा है…

Jeet Bhargava April 1, 2010 at 1:01 PM  

Ultimatly...Truth Prevailed. Nice Information. Keep it Up.
Please join AHWAN (Association of Hindu Writers And Nerizens) link is here..

http://groups.google.com/group/AHWAN1?lnk=

Links also availble on my blog: www.secular-drama.blogspot.com

ajit gupta April 1, 2010 at 9:50 PM  

असल में क्‍या है कि कांग्रेस ने 1984 में राजीव गांधी के नेतृत्‍व में सिखों का कत्‍लेआम करवाया था तो इन्‍हें सब कुछ मालूम है कि हमने मानवता के साथ कैसा गन्‍दा खेल खेला था। इसलिए अपनी ही करतूतों के अनुभव को ये नरेन्‍द्र मोदी के सर मढ़ रहे हैं। ये सारे ही कल्‍पना लोक में विचर रहे हैं कि हमने ऐसा किया था तो इन्‍होंने भी ऐसा ही किया होगा। जब कि तुम जितने क्रूर और हिंसक और कोई हो नहीं सकता। सत्‍य तो एक दिन सामने आ ही जाएगा। लेकिन ये लोग सत्‍य को इतनी आसानी से सामने नहीं आने देंगे। बदनाम करके सत्ता काबियाने की कला इनमें कूट-कूटकर भरी है।

  © Blogger template The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP